संक्रमण के मामले पहुंच गए 20 लाख के पार

Card image admin नई दिल्ली | Published on: Thursday, April 16th, 2020
Card image

संक्रमण के मामले पहुंच गए 20 लाख के पार

Hindibaag Desk : जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के मुताबिक़, दुनिया भर में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़कर 20 लाख 60 हज़ार के पार पहुंच गए हैं.  मरने वालों की संख्या एक लाख 34 हज़ार से अधिक हो गई है.

संक्रमण के सबसे अधिक मामले अमरीका में हैं और मरने वालों की संख्या भी सबसे अधिक अमरीका में ही है. अमरीका में मरने वालों की संख्या 30 हज़ार से अधिक है जबकि संक्रमण के मामले 6 लाख 37 हज़ार से अधिक हैं.अमरीका के बाद दूसरा सबसे अधिक प्रभावित देश इटली है. इटली में मरने वालों का आंकड़ा 21 हज़ार के पार है. इटली में संक्रमण के एक लाख 65 हज़ार से अधिक मामले हैं.इटली के बाद सबसे अधिक मौतें स्पेन में हुई हैं. स्पेन में अभी तक 18,812 लोगों के मौत की पुष्टि की जा चुकी है. जबकि एक लाख 80 हज़ार से अधिक लोग संक्रमित हैं.वहीं ब्रिटेन में मरने वालों की संख्या 12 हज़ार के पार है. यहां संक्रमण के 99 हज़ार से अधिक मामले पाए गए हैं.भारत की बात करें तो स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की वेबसाइट पर मौजूद जानकारी के मुताबिक़, भारत में संक्रमण के कुल 11933 मामले हैं. 392 लोगों के मौत की पुष्टि की जा चुकी है. जबकि 1344 लोग ठीक हुए हैं. ये आंकड़े 15 अप्रैल शाम पाँच बजे तक के हैं.

आईएमएफ़ का कहना है कि कोरोना वायरस के कारण इस वर्ष एशिया की आर्थिक वृद्धि 60 सालों में पहली बार रुकेगी.जी-20 समूह के देशों ने दुनिया के सबसे ग़रीब देशों में से 77 देशों से ऋण भुगतान को फ़िलहाल के लिए लंबित करने पर सहमति जताई है.चीन ने अपने यहां कोविड 19 के मरीज़ों के इलाज के लिए शुरू किये गए अस्पतालों में से एक को बंद कर दिया है. कोविड 19 के लिए ख़ासतौर पर तैयार किये गए ये अस्पताल महज़ कुछ दिनों में तैयार हो गए थे.

अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि अमरीका में कोरोना वायरस का सबसे ख़तरनाक दौर गुज़र चुका है और इस बात की उम्मीद की जा सकती है कि अमरीका के कुछ राज्य जल्दी ही खुल जाएंगे. व्हाइट हाउस में अपने दैनिक प्रेस ब्रीफ़िंग के दौरान राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि प्रतिबंधों को हटाने से जुड़ी गाइडलाइन्स की घोषणा राज्यों के गवर्नरों से बातचीत के बाद गुरुवार को कर दी जाएगी.राष्ट्रपति ट्रंप के फ़ंड से जुड़े फ़ैसले के बाद WHO के प्रमुख डॉ टेड्रोस एडनम गिब्रिएसस ने कहा, ”अमरीका लंबे समय से WHO का दोस्त रहा है और वो आर्थिक रूप से मदद भी करता रहा है.

ट्रंप के इस फ़ैसले की आलोचना हो रही है.” डॉ टेड्रोस ने कहा, ”अमरीका के फ़ंड बंद करने के बाद पड़ने वाले प्रभाव की WHO समीक्षा कर रहा है. हम अपने पार्टनर्स के साथ आर्थिक संकट को लेकर काम करेंगे ताकि किसी तरह की दिक़्क़त ना हो. हम इस बात को सुनिश्चित करेंगे कि काम रुके नहीं.”फ़्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने फ़्रेंच रेडिए आरएफ़आई को दिए इंटरव्यू में संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंटोनियो गुटेरस की अपील का समर्थन किया है, जिसमें उन्होनें आने वाले दिनों में कोरोना वायरस की महामारी को रोकने के लिए दुनिया भर में चल रहे सभी सैन्य संघर्षों को रोकने की बात कही है.जर्मनी की चांसलर एंगेला मर्केल ने घोषणा की है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए चल रही पाबंदियां अब धीरे-धीरे ख़त्म की जाएंगी. हालांकि सोशल डिस्टेंसिंग के नियम कम से कम तीन मई तक लागू रहेंगे. Sabhar:bbc


अपडेट