Wednesday 27 Oct 2021 19:45 PM

Breaking News:

ऊपरी कक्षाओं में भी मैथिली में पढ़ाई संभव

ऊपरी कक्षाओं में भी मैथिली में पढ़ाई संभव

दरभंगा | एक प्रतिनिधि

मंत्री पद की शपथ मातृभाषा मैथिली में लेने वाले बिहार सरकार के जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा एवं कला संस्कृति मंत्री आलोक रंजन झा के साथ विधान पार्षद घनश्याम ठाकुर एवं लनामि विवि के कुलपति प्रो. सुरेंद्र प्रताप सिंह को विद्यापति सेवा संस्थान के तत्वावधान में शुक्रवार को मिथिला विभूति सम्मान दिया गया। समारोह की अध्यक्षता कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. शशि नाथ झा ने की। मौके पर बतौर विशिष्ट अतिथि पीजी हिंदी विभाग के सेवानिवृत्त अध्यक्ष डॉ. प्रभाकर पाठक एवं एमएलएसएम कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ. विद्या नाथ झा उपस्थित हुए। मंत्री संजय कुमार झा ने कहा कि अपने घर में ऐसा सम्मान पाकर वे आज स्वयं में कई गुना अधिक ऊर्जा का संचार होता पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्राथमिक कक्षा तक की पढ़ाई मैथिली भाषा में होने को न सिर्फ स्वीकृति मिल चुकी है, बल्कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एवं शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने इसके लिए व्यक्तिगत रुचि लेकर एनसीईआरटी के निदेशक से मैथिली भाषा में पढ़ाई की शुरुआत करने को लेकर मॉड्यूल बनाने का अनुरोध किया है। यदि प्राथमिक शिक्षा की पढ़ाई मैथिली भाषा में कराए जाने का मॉड्यूल सफल हो गया, तो ऊपर की कक्षाओं की पढ़ाई मैथिली भाषा में होने से कोई रोक नहीं सकता। वहीं, कला संस्कृति मंत्री आलोक रंजन झा ने कहा कि मैथिली के विकास के लिए वे कृतसंकल्पित हैं। मिथिला-मैथिली के विकास के लिए जो भी प्रस्ताव उनके समक्ष लाया जाएगा, उसके समर्थन में वे सबसे आगे बढ़कर हिस्सा लेंगे। लनामि विवि के कुलपति प्रो. सुरेंद्र प्रताप सिंह, विधान पार्षद घनश्याम ठाकुर व डॉ. प्रभाकर पाठक ने भी विचार रखे। अध्यक्षीय संबोधन में कुलपति प्रो. शशिनाथ झा ने मिथिला- मैथिली के विकास के लिए सेवा करने वाले लोगों के सम्मान में इस तरह के आयोजन को महत्वपूर्ण बताया। समारोह का संचालन मैथिली अकादमी के निवर्तमान अध्यक्ष पं. कमलाकांत झा ने किया। संस्थान के महासचिव डॉ. बैद्यनाथ चौधरी बैजू ने पृथक मिथिला राज्य के गठन की आवश्यकता पर बल दिया।

Comments

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *