Saturday 08 May 2021 18:58 PM

Breaking News:

Roohi Review: फिल्म देखने से पहले पढ़ लें 'रूही' का रिव्यू, 'स्त्री' के फैन्स खासतौर पर दें ध्यान

Roohi Review: फिल्म देखने से पहले पढ़ लें 'रूही' का रिव्यू, 'स्त्री' के फैन्स खासतौर पर दें ध्यान

फिल्म: रूही
निर्देशक: हार्दिक मेहता
कास्ट: जाह्नवी कपूर, राजकुमार राव, वरुण शर्मा

जाह्नवी कपूर और राजुकमार राव स्टारर फिल्म 'रूही' 11 मार्च को रिलीज हो चुकी है। अनाउंसमेंट के वक्त से ही फिल्म लगातार चर्चा में बनी हुई थी। 2018 में आई 'स्त्री' के फैन्स इसका बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। 'स्त्री' ने बॉक्स ऑफिस पर अच्छी कमाई की थी, जिसके बाद दर्शकों को उम्मीद थी कि उस ही प्रोडक्शन के तले बनी 'रूही' भी अच्छी होगी, दूसरे शब्दों में कह सकते हैं कि अगर अच्छी न हुई तो उससे कमतर भी नहीं होगी। हालांकि यह फिल्म ना तो लोगों को ज्यादा हंसा पाई ना ही डराने मे कामयाब हुई। 

'रूही' की कहानी
फिल्म में एक छोटे कस्बे के दो दोस्त भंवरा पांडेय (राजकुमार राव) और कतन्नी (वरुण शर्मा) रूही (जाह्नवी कपूर) के चक्कर में फंस जाते हैं। दोनों जर्नलिस्ट बने हैं और पार्टटाइम किडनैपिंग करते हैं। 'पकड़वा विवाह' के लिए होने वाला एक दूल्हा उन्हें रूही को किडनैप करने के लिए हायर करता है। दोनों को देखने में तो रूही साधारण लड़की लगती है लेकिन बाद में पता चलता है कि उसकी उस पर अफजा की आत्मा ने कब्जा किया है। कहानी में ट्विस्ट तब आता है जब भंवरा को रूही से प्यार हो जाता है और कतन्नी को अफजा से। भंवरा अफजा से पीछा छुड़ाना चाहता है लेकिन कतन्नी चाहता है कि वह रहे। फिल्म में इसी प्लॉट के इर्द-गिर्द हॉरर और कॉमेडी क्रिएट करने की कोशिश की गई है। 

'स्त्री' के फैन्स हो सकते हैं निराश
फिल्म में कई अंधविश्वास, टोने-टोटके और और पैरानॉर्मल ऐक्टिविटीज दिखाई गई हैं। डायरेक्टर ने फिल्म में हॉरर और कॉमेडी दोनों जॉनर मिलाने की कोशिश की है लेकिन 'स्त्री' को दिमाग में रखकर देखेंगे तो निराश हो सकते हैं। फिल्म में वरुण शर्मा और राजकुमार राव की कॉमिक टाइमिंग बढ़िया है। डायलॉग डिलीवरी पर आपको हंसी आ जाएगी। इंग्लिश के कई शब्दों को गलत तरीके के प्रनाउंस करके फन का तड़का ऐड किया गया है, जो काफी हद तक एंटरटेनिंग है।

 

वरुण शर्मा ने जीता दिल
वरुण शर्मा ने राजकुमार राव को कड़ी टक्कर दी है, उनके एक्सप्रेशंस से लेकर बॉडी लैंग्वेज तक सब कुछ काबिल-ए-तारीफ है। राजकुमार राव ने भी ठीक काम किया है लेकिन  'स्त्री' से तुलना करें तो उतने ब्रिलिएंट नजर नहीं आए। जाह्नवी पूरी फिल्म के सेंटर में हैं फिर भी पता नहीं क्यों फीकी दिखी हैं। 

देखें या ना देखें?
हार्दिक मेहता का डायरेक्शन आपको फिल्म में इंगेज रखेगा लेकिन मृगदीप सिंह लांबा और गौतम मेहरा ने रूही का किरदार कमजोर लिखा है। कुछ नहीं तो फिल्म की ओपनिंग में 'नदियों पार' और क्रेडिट्स में 'पनघट' देखकर भी खुश हो सकते हैं। कुल मिलाकर थिअटर में फिल्म देखने का मन है, जाह्नवी, राजकुमार राव या वरुण शर्मा को एक साथ देखना चाहते हैं, हॉरर-कॉमेडी देखना पसंद है तो फिल्म देखी जा सकती है।

Comments

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *